मोहब्बत में फासले भी जरूरी है साहब

Mujhse Dooriyaan Banakar To Dekho,
Phir Pata Chalega Kitna Nazdeek Hoon Main.

मुझसे दूरियाँ बनाकर तो देखो,
फिर पता चलेगा कितना नज़दीक हूँ मैं।

Dooriyan Jab Bhi Badhi To Galatfhamiyan Bhi Badh Gayi,
Phir Tumne Vo Bhi Suna Jo Maine Kaha Hi Nahi.

दूरियाँ जब भी बढ़ी तो गलतफहमियां भी बढ़ गयी,
फिर तुमने वो भी सुना जो मैंने कहा ही नही।

Tu Mujhse Dooriyan Badhane Ka Shauk Poora Kar,
Meri Bhi Jid Hai Tujhe Har Dua Mein Magunga.

तू मुझसे दूरियाँ बढ़ाने का शौक पूरा कर,
मेरी भी जिद है तुझे हर दुआ में मागुँगा।

Ek Sil-sile Kee Ummeed Thee Jinse,
Vahee Faasale Banaate Gaye.
Ham To Paas Aane Ki Koshish Mein The,
Na Jane Kyu Vo Hamse Dooriyan Badhate Gaye.

एक सिल-सिले की उम्मीद थी जिनसे,
वही फ़ासले बनाते गये।
हम तो पास आने की कोशिश में थे,
ना जाने क्यूँ वो हमसे दूरियाँ बढ़ाते गये।

Mana Ki Dooriya Kuch Badh Se Gayi Hain
Lekin Tere Hisse Ka Waqt Aaj Bhi Tanha Gujarta Hai.

मन की दूरियां कुछ बढ़ सी गयी हैं
लेकिन तेरे हिस्से का वक़्त आज भी तनहा गुजरता है।

Tera Mera Dil Ka Rishta Bhi Ajeeb Hai,
Meelon Ki Dooriyan Hai Aur Dhadkan Kareeb Hai.

तेरा मेरा दिल का रिश्ता भी अजीब है,
मीलों की दूरियां है और धड़कन करीब है।

Khud Ke Liye Ik Saja Mukarr Kar Li Maine,
Teri Khushiyon Ki Khatir Tujhse Dooriyan Chun Li Maine.

खुद के लिए इक सजा मुकर्र कर ली मैंने,
तेरी खुशियों की खातिर तुझसे दूरियां चुन ली मैंने।

Ye Kaisa Ajab Sa Pyar Hai,
Jismein Na Milne Ki Aas Na Koi Takarar Hai,
Dooriyaan Itani Ki Sahi Na Jayen,
Phir Bhi Nibhane Ki Chaah Barqaraar Hai.

ये कैसा अजब सा प्यार है,
जिसमें ना मिलने की आस ना कोई तकरार है,
दूरियाँ इतनी की सही न जाएँ,
फिर भी निभाने की चाह बरक़रार है।

Na Kabhi Ye Jaan Sake Dooriyaan Kyu Thi,
Jubaan Par The Lafj Phir Wo Majbooriyan Kyu Thi,
Dilon Ki Baten Agar Hakikat Hoti Hain,
Hamare Darmiyan Wo Khamoshiyan Na Hoti,
Bune The Hamne Bhi Kuchh Reshmi Dhagon Se Khvaab,
Magar Hamare Hathon Mein Wo Kaali Doriyan Kyu Thi.

न कभी ये जान सके दूरियां क्यों थी,
जुबान पर थे लफ़्ज फिर वो मजबूरियां क्यों थी,
दिलों की बातें अगर हकीकत होती हैं,
हमारे दरमियाँ वो खामोशियाँ न होती,
बुने थे हमने भी कुछ रेशमी धागों से ख्वाब,
मगर हमारे हाथों में वो काली डोरियां क्यों थी।

Mohabbat Mein Fhasle Bhi Jaruri Hai Sahab,
Jitni Doori Utna Hi Gahra Rang Chadhta Hai.

मोहब्बत में फासले भी जरूरी है साहब,
जितनी दूरी उतना ही गहरा रंग चढ़ता है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here